| | English | हिन्दी | मुख्य सामग्री पर जाऍं |

 

"कुछ लोग प्रगतिशील देशों में अंतरिक्ष क्रियाकलाप की प्रासंगिकता के बारे में प्रश्न चिन्ह लगाते हैं। हमें अपने लक्ष्य पर कोई संशय नहीं है। हम चन्द्र और उपग्रहों के अन्वेषण के क्षेत्र में विकसित देशों से होड़ का सपना नहीं देखते । किंतु राष्ट्रीय या अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अर्थपूर्ण भूमिका निभाने के लिए मानव समाज की कठिनाइयों के हल में अति-उन्नत तकनीक के प्रयोग में किसी से पीछे नहीं रहना चाहते।"    - डॉ. विक्रम ए साराभाई

यू.आर.एस.सी. जो भारतीय उपग्रहों का घर है, द्वारा चार दशकों में निर्मित 102 अत्याधुनिक उपग्रह, केंद्र द्वारा प्राप्त तकनीकी उत्कृष्टता का प्रमाण देता है।......आगे

हमारी गुणता नीति : "अंतरिक्ष प्रणालियों तथा सेवाऒ में संपूर्ण गुणता एवं शून्य दोष के लिए प्रतिबद्ध"



गत अद्यतन: 19-July-2018